Hindi Rochak Kahaniya

Top Site For Hindi Quotes, Hindi Stories, Chanakya Neeti, Hindi Poems, Hindi Personality Development Articles, Hindi Essays And Much More In Hindi

Monday, February 3, 2020

Ek Sachi Bhoot Ki Kahani - एक सच्ची भूत की कहानी

Ek Sachi Bhoot Ki Kahani

ek-sachi-bhoot-ki-kahani


Ye Ghatna Ek Sachi Bhoot Ki Kahani Pe Adharit hain.


यह घटना एक हकीक़त है जो मेरे सामने की है! मेरे गाँव से 2 किलोमीटर दूर एक बड़ा सा पीपल का पेड़ है! वह एक विशाल पेड़ है जिसकी शाखाएं लम्बी-लम्बी और मोटी है! वह पेड़ देखने से ही भयानक लगता है !
मेरे तो उस दिन कि घटना के बाद रोंगटे खड़े हो जाते हैं! उस पेड़ की शाखाएं कम से कम आधे बीघे मैं फेली हुई हैं! शायद तुम लोगों मैं से कोई मानता हो या मानता हो लेकिन मैं ज़रूर मानता हूँ की Bhoot  chudail आत्मायें होती है!
हर गली हर चौराहे पर ऐसी बुरी आत्मायें Bhoot होती हैं!वो तब तक नहीं हमे दिखती जब तक वो हमे दिखना नहीं चाहती हैं! यह आत्मायें Bhoot जब दिखती हैं जब किसी की राशि उस आत्मा से मिल जाती है!
मैं तुम्हीं एक ऐसी हकीक़त की कहानी बताने जा रहा हूँ जिस को मैं याद करते ही मेरे रोंगटे खड़े हो जाते हैं अब मैं आपको उस घटना के बारे मैं बताता हूँ की मैं ओर मेरे दोस्त उस पीपल के पेड़ पर खेलने जाया करते थे उस पेड़ की सखाओं पर हम झूले की तरह झूला करते थे! उस पेड़ की छाया इतनी घनी थी की सारे पंछी उसी पे बैठा करते थे ओर हम लोग गर्मियों मैं उस पर जा के झूलते थे बड़ा मजा आता था! वेसे उस पेड़ के बारे मैं लोग कहा करते थे कि उस पेड़ पर Bhoot रहते हैं! पर हम बच्चे कहाँ किसी की मानते थे! बस रोज खेलने को चल दिया करते थे! एक बार की बात है दोपहर का समय था !
हम लोग वहां पहुँच गए ओर हम लोगो ने प्लान बनाया की हम लोग ऊँचाई पर जाके छिप जाते हैं ओर वो लोग आयेंगे तो हम लोग उन्हें Bhoot बनकर डराएंगे ओर हमने अपने-अपने पेन्ट मैं कुछ पत्थर भर के ऊपर चढ़ गए थे !
एक बजे का टाइम था जब हम लोग इंतज़ार कर के थक गए वो लोग नहीं आये तो हम मैं से एक ने कहा की चलो पानी पी कर आते हैं तो मैंने उन से कहा कि मुझे प्यास नहीं लगी है तुम लोग चले जाओ दोस्तों वो लोग उतर कर पानी पीने चले गए दोपहर का समय था सूर्य अपनी फुल तपन पर था! जोर- जोर से लू चल रही थी ओर हवा के गोल गोल झुण्ड बनकर धुल उड़ाते हुए जा रहे थे! आप लोग जानते होगे गाँव मैं इन हवा के गोलाकार को (दंदूरा) कहते हैं!
एक ऐसा ही हवा का गोला मैंने पीपल कि ओर आते हुए देखा बड़ी धुल उडाये हुए वो आया ओर पीपल के सारे पत्ते आवाज करने लगे खर खर ओर कुछ टूट के गिरने लगे धुल कि वजह से तो मेरी आंखें बंद हो गयी! सारे पंछी उड़ गए एक दम मैंने जब आँखे खोली तो क्या देखता हूँ एक काली सी शक्ल का बड़े-बड़े बालों बाला और इतना डरावना इंसान मेरे सामने वाली डाली पर बेठा है एक दम मेरे डर के मारे हाथ छुट गए और मैं नीचे जा गिरा नीचे गिरते ही मैं बेहोश हो गया! जब मेरी आंखे खुली तो देखा की मेरे दोस्त पानी पीकर लौट आये हैं मुझे उठा कर उन्होंने मुझे बिठाया नीचे पीपल के पत्ते काफी इकट्ठे हुए थे इस लिए मुझे ज्यादा चोट नहीं लगी बस मेरे पैर से थोडा सा खून निकल आया था!
जब मेरे दोस्त ने पुछा की क्या हुआ तो मैंने उन्हें बताया कि अभी इस पेड़ पर मैंने भूत देखा है!सारे दोस्त समझ रहे थे कि अजय हमे डराने की कोशिश कर रहा हे उन्होंने कहा लगता है तुझे प्यास लगी और तू ऊपर से इसलिए गिर गया है उन्होंने कहा जा तू पानी पीकर तब तक हम यही बेठे हैं!
उनकी जिद कि वजह से मुझे पानी पीने जाना पड़ा मैं वैसे भी डरा हुआ था और मेरे हाथ पैर काँप रहे थे मैं मन ही मन मैं सोच रहा था कि बस आज मैं यहाँ से निकल जाऊं कल से मैं यहाँ नहीं आऊँगा मेने बाल्टी उठाई और कुए मैं डाल दी जैसे ही कुए मैं बाल्टी पहुंची एक दम से आवाज आई और वो आवाज ऐसे लग रही थी जैसे कोई पानी मैं बार बार कूद रहा हो मैं और डर गया जब कि रस्सी मैंने आराम से पकड़ राखी थी तो यह आवाज कैसी मैंने कुए मैं देखा कुंए के पानी मैं मुझे वही चेहरा नजर आया एक दम से मैं पीछे हटा मुझसे कोई पीछे ऐसे टकराया कि मेरे तो होश उड़ गए और डर के मारे मेरे हाथ से रस्सी कुए मैं जा गिरी मैंने जैसे ही पीछे देखा वही भयानक शक्ल वाला आदमी खड़ा था मेरी तो आवाज बंद हो गयी उसके बड़े बड़े दांत लम्बे-लम्बे बाल दांत तो ऐसे जैसे कि साले ने कभी जिन्दगी मैं मंजन भी नहीं किया हो उसकी खाल जली हुई सी जैसे कि कोई जला हुआ इंसान इतना डरावना लग रहा था कि मैं तो बस मेरी आखे खुली थी बस शरीर मैं कोई जान नहीं थी बस मैं बेहोश हो के गिर पड़ा मेरे दोस्त सोच रहे थे कि यह अब तक क्यों नहीं आया कुछ देर बाद जब मेरी आंखें खुली तो मैंने देखा कि मैं पीपल के पेड़ के नीचे पड़ा हूँ तो मैं और डर गया कि मैं यहाँ कैसे गया दोस्त मुझे उठा कर लाये थे जैसे ही मैं खड़ा हुआ देखा तो मेरे दोस्त खड़े हुए थे ओर कह रहे थे लगता है तेरी तबियत ठीक नहीं है तुझे पहले बताना चाहिए था हम पानी ले आते कहीं तू कुए मैं गिर जाता तो हमारे घर वाले तो हमे भी जान से मार देते मैंने उन्हें बताया कि मेरी तबियत ख़राब नहीं हैं मेने सचमुच Bhoot को देखा है!उन लोगो को विश्वाश नहीं हो रहा था कि अजय जो कि कभी भी Bhoot के बारे मैं बोलते थे तो वो कहता था कि Bhoot नहीं होते मगर इसे आज हो क्या गया है!
जो हर बात पे Bhoot - Bhoot लगाये हुआ है! भाइयो अब तक शाम हो चुकी थी! हमारे दोस्तों का आने का समय हो गया था! मेरे दोस्त ने कहा चलोअब ऊपर चढ़ जाते हैं और उन लोगो को डराते हैं! मुझे डर तो लग रहा था पर मैं दोस्तो के साथ ज्यादा ऊपर नहीं बस थोड़ी ऊँचाई पर जाके बैठ गया जब वो लोग आये तो हमने पत्थर फेकने चालू किये और तब तक हुआ क्या जोर से एक (दंदूरा) हवा का झोका आया और सरे पीपल को उसने झकझोर दिया हम लोगो को लगा जैसे कि कोई उसे झकझोर के उखाड़ने कि कोशिश कर रहा हो मेरे दोस्तों ने समझा कि Bhoot है इस पेड़ पर और वो सारे लोग डर कर भाग गए ओर हम बड़े ही खुश हुए कि आज तो इन्हें हमने डरा ही दिया पर हमे क्या पता था कि वो Bhoot भी यह सब देख रहा है ओर उसने जोर से पेड़ को हिलाया जैसे ही मैंने मेरे दोस्तों ने यह सब देखा जल्दी-जल्दी उतरने लगे अब की बार तो उसकी आंखें लाल लाल दांत होठो से बहार हम वहां से भागे मैं तो डाली पकड़ के कूद पड़ा मेरे दोस्त जिस से लटका वो डाली टूट गयी ओर एक दम से नीचे गिरा मैंने उसे उठाया तक नहीं मैं वहां से भागा ओर मेरे दोस्त भी पीछे पीछे बस फिर तो हम ने मुड कर नहीं देखा घर के ही हमने दम लिया हमने देखा कि हमारा दोस्त नीरज नहीं दिख रहा है तो हमने उसे उधर से लेट आते हुए देखा वो आराम - आराम से रहा था उसकी आंखें
लाल हाव भाव बदले हुए नज़र रहे थे हमने उनसे पुछा कि नीरज क्या हुआ तो उसने कुछ नहीं कहा बस हमारी तरफ ऐसी ही नजरों से वह देख कर चला गया ओर जाकर सीधे अपनी चबूतरे पर जा कर बेठ गया उसके हाव भाव बदले आवाज भारी सी हो गयी है! जब घर के सब लोगो ने उसे देखा ओर कहा कहाँ गए थे तुम लोग तब मेरे दोस्त सुरेश ने सारी बात बता दी तब हमारे चाचा जी ने कहा में हमेशा मना करता रहता हूँ इन लोगों को कि पीपल के पास मत जाया करो पर यह लोग मानते ही नहीं अब देखो इसका क्या हाल हुआ है अब जा कर भगत जी को बुला के ले आओ हमारे गांव मैं एक बाबा हैं शियाराम जो हनुमान के मंदिर मैं रहते हैं ओर पूजा करते हैं वो तंत्र मंत्र इन चीजो मैं माहिर हैं!इसलिए उन्हें लोग भगत जी के नाम से बुलाते हैं तब मैं जाकर मंदिर से भगत जी को बुलाया भगत जी ने मुझसे कहा कि पहले कुल्ला कर ओर जाकर हुनमान के मंदिर से (भभूत) राख ले कर तब मैंने राख ली तब तक भगत जी ने कुल्ला कर के अपना कमंडल उठाया ओर चल दिए ओर मैं उनके पीछे-पीछे चल दिया भगत जी वहां पहुंचे ओर पहुँचते ही सब समझ गए ओर कहा भाई तुम यहाँ क्या लेने आये हो वो चुप रहा कुछ बोला नहीं तब भगत जी समझ गए कि तू ऐसे नहीं बताएगा तब भगत जी ने धरती के पैर छूकर बैठ कर मुझसे राख माँगी मैंने उनको राख दे दी तब उन्होंने कुछ मंत्र बोला कर उस राख को उसके ऊपर फेख दिया ओर कुछ कमंडल से जल के छींटे मारे तक उसका कान पकड़ के बोले बता तुने इस लड़के को क्योँ पकड़ रखा ओर कौन है तू ओर कहाँ से आया है तब उसने बताया कि मैं पास के पीपल के पेड़ पर रहने वाला Bhoot हूँ यह लोग मुझे दोपहर के समय सोने नहीं देते थे इसलिए मैंने इनको डराया ओर इसको पकड़ लिया भगत जी बोले तू पीपल को छोड़ ओर कहीं दूर जंगल मैं चला जा ओर वो पीपल बच्चों के खेलने के लिए है! पर मैं कहाँ जाऊंगा तब भगत जी ने कहा कि तू ऐसे हीओ चला जागेगा या फिर निकालूँ अपना बज्र ओर भगत जी की आखें लाल हो गयी तब भूत ने कहा आप मेरा
कान छोड़ोगे तभी तो मैं जाऊँगा देख कितना अच्छा बच्चा है इतना जल्दी समझ गया एक दम नीरज हिला ओर वो नोर्मल हो गया जैसे कि अभी सोकर जगा हुआ है तब भगत जी ने कहा जाओ अब पीपल वाला Bhoot भाग चूका है अब तुम कभी भी जा कर उस पेड़ पर खेल सकते हो! हाँ दोस्तों एक बात बताना मैं भूल गया भगत जी आँखों मैं जो चमक आई वो हनुमान जी थे ओर उन्ही ने कहा था कि मैं बज्र से मारू क्या तुझे ! तो प्रेम से बोलिए संकट मोचन हनुमान जी की जय तब से हम लोग Bhoot पर विश्वाश करने लगे हैं!

1 comment:

Please do not enter any spam link in the comment box.